Breaking News
.

कई राज्यों से घिरा है छत्तीसगढ़, पड़ोसी राज्यों में ओमिक्रॉन के मरीज मिल चुके, सिंहदेव ने कहा- सावधानी जरूरी, नाइट कर्फ्यू पर बोले- वैसे भी रात में कोई बाहर नहीं निकलता …

रायपुर । कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को देखते हुए पीएम मोदी ने देश के नाम संबोधन में तीन बड़े ऐलान किए तो वहीं छत्तीसगढ़ में भी इस महामारी के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग की बैठक हुई। बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि 108 देशों में ओमिक्रोन पहुंच चुका है। देश में भी ओमिक्रॉन तेजी से बढ़ रहा है। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, तेलंगाना, झारखंड आदि राज्यों से छत्तीसगढ़ घिरा हुआ है। पड़ोसी राज्यों में केस मिल रहे हैं। अभी राहत की बात यह है कि छत्तीसगढ़ में पॉजिटिविटी दर 1% से भी कम है। प्रदेश में अगर केस बढ़ते हैं तो उतने बिस्तर हैं या नहीं इस पर समीक्षा हुई। सिंहदेव ने कहा कि सावधानी बेहद जरूरी है।

मंत्री सिंहदेव ने बैठक की जानकारी ट्विटर पर भी शेयर की है। मीडिया से बातचीत में सिंहदेव ने कहा कि बैठक में प्रदेश में संभावित ओमिक्रॉन संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य विभाग को तैयारियों एवं परिस्थिति के अनुरूप कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि ओमिक्रोन के संक्रमण से निपटने के लिए हमारे पास 17000 बिस्तर तैयार हैं। कोरोना से निपटने विभाग स्वास्थ्य सेवाओं मजबूत करने में लगा है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर के दौरान आई दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए सुविधाएं बढ़ाई जा रही है। सिंहदेव ने विदेश से छत्तीसगढ़ आए लोगों के संदर्भ में कहा कि स्वास्थ्य विभाग उनकी पहचान कर रहा है। पुलिस की भी मदद ली जा रही है।

सिंहदेव ने कहा कि कोविड को लेकर कोई विशेषज्ञ अपनी राय नहीं दे रहे हैं कि यह कितना खतरनाक हो सकता है। बैठक में दूसरी लहर के अनुभव के आधार पर हमारी कितनी तैयारी है, इसकी समीक्षा की गई है। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि कोरोना के प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन होना चाहिए। वहीं ज़िनोम सीक्वेंसिंग लैब को लेकर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि बजट में लैब के लिए प्रावधान करेंगे। नाइट कर्फ्यू के संदर्भ में सिंहदेव ने कहा कि यह कोई ऑप्शन नहीं है। वैसे भी रात में कोई व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकलता।

error: Content is protected !!