Breaking News
.

लुधियाना कोर्ट में विस्फोट: NIA को सौंपी गई मामले की जांच, मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह बोले- विस्फोट के पीछे राष्ट्रविरोधी तत्व ….

चंडीगढ़ । पंजाब में गुरुवार दोपहर को लुधियाना कोर्ट परिसर में हुए विस्फोट में दो लोगों की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए।  अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इस तरह की घटना की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच NIA को सौंपने का फैसला लिया गया है। सार्वजनिक जगहों की सुरक्षा बढ़ाने का आदेश दिया गया है। इससे पहले बेअदबी के कई मामलों को देखते हुए धार्मिक स्थलों की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया था। इन घटनाओं को विधानसभा चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

पुलिस ने बताया कि विस्फोट लुधियाना में जिला एवं सत्र अदालत परिसर की दूसरी मंजिल पर स्थित एक शौचालय में दोपहर करीब 12 बजकर 22 मिनट पर हुआ। इस घटना के बाद पूरे पंजाब में हाई अलर्ट जारी है। कोर्ट में विस्फोट की घटना पर केंद्रीय गृह मंत्रालय भी अलर्ट पर है। सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय ने लुधियाना जिला न्यायालय परिसर में विस्फोट पर पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

घटना पर बोलते हुए पंजाब सीएम चन्नी ने कहा, “पहले यहां बेअदबी के प्रयास किए गए। जब उसके बाद भी अशांति पैदा करने में सफलता नहीं मिल पाई तो अब ऐसी घटनाओं का सहारा लिया जा रहा है। जैसे-जैसे चुनाव करीब आ रहा है। इस तरह की घटनाओं में इजाफा हो रहा है। सरकार सतर्क है और हम लोगों से भी अपील करते हैं कि वे सतर्क रहें।”

विस्फोट के बाद पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है और दमकल की गाड़ियां मौके पर हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बचाव अभियान चलाया जा रहा है और मामले की जांच शुरू कर दी गई है। इस बीच, पूरे पंजाब में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है और पुलिस को सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा कड़ी करने का निर्देश दिया गया है।

इलाके में धमाके की आवाज सुनकर कोर्ट के बाहर भीड़ जमा हो गई। मौके से आए एक वीडियो में छह मंजिला इमारत से धुंआ निकलता दिख रहा है। गुरुवार को वकीलों की हड़ताल थी और इसलिए विस्फोट के समय अदालत परिसर में कुछ ही लोग थे। बम विस्फोट से बाथरूम की दीवारें और खिड़की के शीशे भी टूट गए।

error: Content is protected !!