Breaking News
.

भोपाल की सायबर क्राइम ब्रांच पुलिस भारत में ‘नंबर वन, 2 महीने में अलग-अलग राज्यों में पकड़े 12 फर्जी कॉल सेंटर ….

भोपाल। राजधानी की साइबर क्राइम ब्रांच देश में नंबर वन है। वो देश में साइबर अपराधियों के खिलाफ सबसे ज्यादा कार्रवाई करने वाली पुलिस बन गयी है। इस टीम ने महज दो महीने में अलग-अलग राज्यों में 12 फर्जी कॉल सेंटर्स का पर्दाफाश कर 45 आरोपियों को गिरफ्तार किया।

देश में भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच अब तेजी से काम करने के लिए पहचानी जाने लगी है। इस टीम ने पिछले सिर्फ दो महीने में पांच राज्यों में ठगी के 12 कॉल सेंटर्स का खुलासा किया और इनमें सबसे ज्यादा 45 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया। पुलिस ने झारखंड के जामताड़ा से लेकर राजस्थान के भरतपुर, आसनसोल पश्चिम बंगाल, मेवात हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में चल रहे ठगी के काल सेंटर्स पर कार्रवाई की।

इसलिए मिला नंबर वन का खिताब.. पिछले 2 महीने में सायबर क्राइम पुलिस ने 225 मामले दर्ज किए। इनमें 130 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इनमें 8 राज्यों में छिपे बैठे 45 शातिर साइबर ठग शामिल हैं। यह 45 शातिर आरोपी कॉल सेंटर के जरिए लोगों को तरह-तरह के प्रलोभन देकर लाखों रुपए ठगते थे। पिछले 2 महीने में इतनी बड़ी कार्रवाई किसी राज्य की साइबर क्राइम पुलिस ने नहीं की है।

क्राइम ब्रांच से अलग विंग बनाई भोपाल क्राइम ब्रांच से अलग कर साइबर क्राइम पुलिस नाम से नई विंग बनाई है। यह विंग सिर्फ साइबर क्राइम पर फोकस करती है। इसके लिए अलग से पुलिसकर्मियों और अफसरों की पूरी एक अलग टीम है। भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच के एडिशनल एसपी अंकित जायसवाल ने कहा पिछले कुछ महीनों में तेजी से कार्रवाई की गई। इसी का नतीजा रहा कि दूसरे राज्यों से भी आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा दूसरे राज्यों में जाकर भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच की टीम ने ऐसे कॉल सेंटरों का खुलासा किया जहां से देशभर के लोगों को ठगा जा रहा था। कई मामले हाईटेक थे लेकिन तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर साइबर अपराधियों को पकड़ लिया गया।

तेजी से कार्रवाई का नतीजा भोपाल में इसी साल साइबर क्राइम ब्रांच की अलग टीम बनायी गयी है। 2 आईपीएस अफसरों के नेतृत्व में लगातार तेजी से कार्रवाई की जा रही है। इतने कम समय में भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच ने अपनी अलग पहचान बना ली है।

error: Content is protected !!