Breaking News
.

बदला यात्रा नियम : कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज़ ले चुके भारतीयों को इंग्लैंड में 10 दिनों का क्वारंटाइन जरूरी …

नई दिल्ली। नए नियमों पर प्रतिक्रिया देते हुए, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा, “कोविशील्ड को मूल रूप से यूके में विकसित किया गया था और पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने उस देश को भी आपूर्ति की है। इसे देखते हुए वहां की सरकार का यह फैसला बिल्कुल विचित्र है। इससे नस्लवाद {जातिवाद} की बू आती है।”

ब्रिटेन में नए यात्रा नियमों के अनुसार, कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बावजूद भारतीयों को यूनाइटेड किंगडम में टीकाकरण नहीं माना जाएगा। उन्हें 10 दिनों के क्वारंटाइन से गुजरना होगा।

यूके की सरकार ने कहा है कि यदि किसी व्यक्ति को अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, भारत, तुर्की, जॉर्डन, थाईलैंड, रूस सहित अन्य देशों में टीका लगाया गया है, तो उन्हें गैर-टीकाकरण माना जाएगा। उन्हें क्वारंटाइन नियमों का पालन करना होगा।

यूके के यात्रा नियमों ने देशों को तीन अलग-अलग श्रेणियों में विभाजित किया है। ग्रीन, एम्बर और रेड। भारत को एम्बर श्रेणी में रखा गया है। नियमों में नए बदलाव के मुताबिक सिर्फ एक कैटेगरी होगी- रेड और दूसरे देशों से आने वाले ट्रैवल रूल्स। नियम यूके की यात्रा करने वाले व्यक्तियों के टीकाकरण की स्थिति पर निर्भर करेंगे।

यूके सरकार की वेबसाइट के मुताबिक, “सोमवार से इंग्लैंड की अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के नियम रेड, एम्बर, ग्रीन एकल रेड लिस्ट में बदल जाएंगे। ऐस देश और क्षेत्र जो रेड लिस्ट में नहीं हैं, वहां के यात्रियों के टीकाकरण की स्थिति पर उनकी यात्रा निर्भर करेगी।”

error: Content is protected !!