Breaking News
.

अमित जोगी ने कहा- केंद्र की योजना गरीब कल्याण रोजगार अभियान में छत्तीसगढ़ को शामिल न करना दुर्भाग्यजनक, सभी सांसदों को एकजुट होने की जरूरत

रायपुर(गुणनिधि मिश्रा)। जोगी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व विधायक अमित जोगी ने कहा है कि केंद्र सरकार की कल्याणकारी व महात्वाकांक्षी योजना गरीब कल्याण रोजगार अभियान में छत्तीसगढ़ के किसी भी जिले को शामिल न करना अत्यंत दुर्भाग्यजनक है। भाजपा व कांग्रेस के सांसदों को दलगत राजनीति से ऊपर हटकर इसके लिए एकजुट होना चाहिए।

अमित जोगी ने एक बयान में कहा कि भारत सरकार प्रवासी मजदूरों के लिए बहुत ही महात्वाकांक्षी ग्रामीण कल्याण रोजगार अभियान प्रारंभ करने जा रही है। देश के 116 जिलों में यह योजना प्रारंभ में चलाई जाएगी। केंद्र सरकार की ओर से जिलों का चयन कर लिया गया है। दुर्भाग्य की बात है कि छत्तीसगढ़ के किसी भी जिले का नाम इस योजना में शामिल नहीं है। छत्तीसगढ़ से दिल्ली में 16 सांसद है। 11 लोकसभा और 5 राज्यसभा से। छत्तीसगढ़ से लाखों की तादाद में मजदूर दूसरे राज्यों को हर वर्ष जाते हैं। कोरोना महामारी के चलते बड़ी संख्या में मजदूर छत्तीसगढ़ वापस लौटे हैं। छत्तीसगढ़ में रोजगार के स्थाई व्यवस्था न होने के कारण मजदूरों को हमेशा इधर-उधर भटकना पड़ता है, यह भी एक दुर्भाग्य की बात है।

केंद्र सरकार ने जब मजदूरों के हितों को ध्यान में रखकर एक योजना तैयार की है। इसका लाभ सीधे मजदूरों को मिलना है लेकिन छत्तीसगढ़ के मजदूरों को केंद्र सरकार की इस योजना का किसी तरह का लाभ छत्तीसगढ़ के मजदूरों को नहीं मिलेगा। यह छत्तीसगढ़ के लिए अत्यंत निराशा की बात है। अमित जोगी ने तो यह साफ रूप से कहा कि मैं हाथ जोड़कर विनती करता हूं, आग्रह करता हूं कि दलगत राजनीति से ऊपर उठकर भाजपा व कांग्रेस के सांसदों को इस मुद्दे पर एकजुट होना चाहिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी इसमें सहभागी बनना चाहिए कि केंद्र की इस योजना का लाभ छत्तीसगढ़ को भी मिले। उन्होंने सभी सांसदों से यह कहा कि आप कुछ तो बोलिए, कुछ तो कीजिए।

error: Content is protected !!