Breaking News
.

नई सरकार के साथ-साथ अफगानिस्तान में होगा नया झंडा, राष्ट्रगान को भी बदलेगा तालिबान …

नई दिल्ली । अफगानिस्तान में नई सत्ता के ऐलान के साथ-साथ तालिबान और कई चीजें बदलने जा रहा है। जिसमें अफगानिस्तान के लिए नया झंडा और नया राष्ट्रगान भी शामिल है। अफगानिस्तान पर कब्जा जमाने के बाद अब तालिबान नई सत्ता के गठन के काफी करीब पहुच गया है। तालिबान अफगानिस्तान के पुराने झंडे को बदलेगा और राष्ट्रगान भी नया रहेगा।

रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने सोमवार को मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि अगली सरकार अफगानिस्तान के झंडे और राष्ट्रगान पर फैसला करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि तालिबान प्रशासन सरकारी कर्मचारियों को वेतन भी देगा। इस बीच, तालिबान के सह-संस्थापक मुल्ला बरादर को अफगानिस्तान में तालिबान सरकार के नेता के रूप में बताए जाने की खबरों के बीच, जबीहुल्ला ने कहा कि मुल्ला हिबातुल्लाह अखुंदजादा जीवित है और जल्द ही सार्वजनिक रूप से सामने आएगा।

तालिबान ने सोमवार को कहा कि उन्होंने काबुल के उत्तर में स्थित पंजशीर प्रांत पर कब्जा कर लिया है। पंजशीर जो कि तालिबान विरोधी ताकतों का अंतिम ठिकाना है। पंजशीर घाटी में तालिबान के साथ संघर्ष में नेशनल रेजिस्टेंस फोर्स के प्रवक्ता फहीम दशती की मौत की खबरों के बीच, तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि वह कमांडर गुल हैदर और जनरल जिरात के बीच एक आंतरिक विवाद में मारा गया। इससे पहले, एनआरएफ और उसके नेता अहमद मसूद ने फहीम दशती के निधन की बात स्वीकारी थी, जो पंजशीर प्रतिरोध के प्रमुख चेहरों में से एक थे।

जबीहुल्ला मुजाहिद ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा कि पंजशीर अब तालिबान लड़ाकों के नियंत्रण में है। इलाके में मौजूद चश्मदीदों ने नाम उजागर ना करने की शर्त पर बताया कि हजारों तालिबान लड़ाकों ने रातों-रात पंजशीर के आठ जिलों पर कब्जा कर लिया। तालिबान विरोधी लड़ाकों का नेतृत्व पूर्व उपराष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह और तालिबान विरोधी अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद ने किया था। अहमद शाह मसूद अमेरिका में 9/11 के हमलों से कुछ दिन पहले मारे गए थे।

error: Content is protected !!