Breaking News
.

मध्यप्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अलर्ट, आईसीएमआर ने कहा- अगले 2 महीने सावधान रहने की जरूरत …

बच्चों व टीका नहीं लगवाने वालों को ज्यादा खतरा

भोपाल। कोरोना की तीसरी लहर को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने मध्यप्रदेश समेत देश के 9 राज्यों में अलर्ट जारी किया है। आईसीएमआर ने अगले दो महीने सतर्क रहने की बात कही है। साथ ही चेतावनी दी है कि यदि अगले दो महीने लापरवाही बरती, तो तीसरी लहर आ सकती है। इसमें सबसे ज्यादा खतरा बच्चों और वैक्सीन नहीं लगवाने वाले लोगों रहेगा। कोरोना की दूसरी लहर के बाद बाजार, स्कूल-कॉलेज खुल गए हैं। त्योहारों में बाजारों और मंदिर में लोगों की भीड़भाड़ बढ़ने पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन मुश्किल हो सकता है। प्रदेश में अभी 10 से 12 कोरोना के मामले आने के बावजूद लापरवाही बरती जा रही है, इससे संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। यह घातक हो सकता है।

जनता पर निर्भर है तीसरी लहर- भोपाल एम्स के डायरेक्टर डॉ. सरमन सिंह ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर का आना या नहीं आना, जनता पर निर्भर है। यदि सभी लोग वैक्सीन लगवा लें। साथ ही कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करें तो तीसरी लहर को रोका जा सकता है। एक-दो केस भी सक्रिय रहने पर तीसरी लहर आने की आशंका रहेगी। उन्होंने कहा कि बच्चों के लिए अभी वैक्सीन नहीं आई है, इसलिए बच्चों और नॉन वैक्सीनेट लोगों को खतरा ज्यादा है।

तीसरी लहर के लिए तैयारी पूरी- स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सेक्रेटरी बसंत कुर्रे ने बताया कि तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह तैयार है। अस्पतालों में बेड बढ़ाने से लेकर ऑक्सीजन तक के इंतजाम किए गए हैं। तीसरी लहर को रोकने के लिए सरकार लगातार टेस्टिंग के साथ ही संक्रमितों को आइसोलेट कर उनके इलाज पर फोकस कर रही है। सरकार की तरफ से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने को लेकर जागरूकता का भी काम लगातार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को जनता के सहयोग से ही रोका जा सकता है।

24 घंटे में 14 नए केस मिले, अभी भी प्रदेश में 123 एक्टिव केस- मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 14 नए केस मिले हैं। इसमें 9 कोरोना संक्रमित इंदौर, 3 भोपाल और 2 पन्ना जिले के हैं। प्रदेश में अब तक 7 लाख 92 हजार 560 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। 10 हजार 522 की कोरोना के कारण मौत हो चुकी है। अभी प्रदेश में 123 एक्टिव केस हैं। आईसीएमआर की तरफ से मध्यप्रदेश समेत हिमाचल प्रदेश, मिजोरम, हरियाणा, गुजरात, झारखंड, गोवा, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल को कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अलर्ट जारी किया है। इन राज्यों में जिस तरह से कोरोना के केस अभी भी निकल रहे हैं और लोग लापरवाही बरत रहे हैं, उसे देखकर यहां ज्यादा खतरा है।

प्रदेश में अब तक 6.39 करोड़ डोज लग चुके- प्रदेश में अब तक कुल 6.39 करोड़ वैक्सीन के डोज लग चुके हैं. इसमें से पहला डोज 4.86 करोड़ लोगों को और दूसरा डोज 1. 53 करोड़ लोगों को लगा है. दूसरी ओर, भारतीय सार्स-कोव-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम के सह-अध्यक्ष डॉ एनके अरोड़ा ने रविवार को कहा कि देश में कोविड-19 का कोई नया रूप या वेरिएंट ऑफ कंसर्न सामने नहीं आया है. उन्होंने एएनआई को बताया, “पिछले चार-पांच महीनों के दौरान, कोरोना वायरस का कोई नया रूप सामने नहीं आया है. शुरुआत में, ‘डेल्टा +’ के साथ कुछ चिंताएं थीं, लेकिन बाद में हमने पाया कि यह उस वंश का हिस्सा है जिसे हम AY (1 से 13) कहते हैं. हालांकि नए उप-वंश आ रहे हैं, लेकिन उनमें से कोई भी अधिक संक्रमण या अधिक वायरल वाला नहीं पाया गया है, वे निरंतर निगरानी में हैं.”।

error: Content is protected !!