Breaking News
.

अजीत जोगी ने नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा – देश में लगाएं मेडिकल इमरजेंसी

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री व मरवाही विधानसभा क्षेत्र के विधायक अजीत जोगी ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर “नेशनल मेडिकल इमरजेंसी” लागू करते हुए टोटल लॉकडाउन करने की बात कही है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि … जैसा कि आपको ज्ञात है पूरे देश में कोविड 19 (कोरोना वायरस) मरीजों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। मेरे यह पत्र लिखने तक देश में सीमित और सिलेक्टिव जाँच के बावजूद, 400 से अधिक मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

पिछले 2 दिनों में देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या लगभग दुगनी हो गई है। यदि यह सिलसिला ऐसा ही चलता रहा तो हम बहुत जल्द कोरोना वायरस के तीसरे स्टेज में पहुंच जाएंगे जहां “कम्युनिटी ट्रांसमिशन” के माध्यम से संक्रमण फैलेगा। यह एक ऐसा विस्फोट होगा जिसको 130 करोड़ की आबादी वाला हमारा देश संभालने की स्थिति में कदापि नहीं है। यह स्थिति हमारे देश में महाविनाश लाएगी। आपके द्वारा लगाए गए जनता कर्फ्यू की सफलता की बधाई देते हुए मैं आपसे यह निवेदन करता हूँ कि देश में तत्काल “नेशनल मेडिकल इमरजेंसी” लागू करते हुए पूरे देश में आगामी कुछ दिनों तक टोटल लॉक डाउन कर दिया जाए।

 यूरोपी राष्ट्रों की गलतियों से सीख लेते हुए तत्काल सभी बड़े समारोहों और भीड़ के जमावड़े (मनोरंजन और शैक्षणिक संस्थान तथा विवाह और अंतिम संस्कार जैसे सामाजिक आयोजन) पर देशव्यापी प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए; देश के सभी नागरिकों पर, आपात-स्थिति के अलावा, अपने-अपने घरों से बाहर जाने पर रोक लगा देनी चाहिए; और राशन (खाद्य-सामग्री) और दवाई दुकानों को छोड़कर सभी भोजनालयों (रेस्टोरेन्ट), मदिरालयों (बार), दुकानों और व्यवसायिक संस्थानों को अनिश्चितकाल के लिए बंद कर दिया जाना चाहिए। लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए केंद्र-शासन के स्तर पर ज़रूरतमंद लोगों के घरों तक खाद्य जैसी आवश्यक सामग्री पहुँचाने और कर्मचारियों को वैधानिक वैतनिक अवकाश देने जैसे ठोस कदम लेना भी आवश्यक है क्योंकि अधिकांश राज्य सरकारें ऐसा कर पाने में खुद से सक्षम नहीं हैं। इस लॉकडाउन से लोगों को कष्ट और अर्थव्यवस्था को नुक़सान जरूर होगा लेकिन देश के लाखों-करोड़ों लोगों की जान भी बचेगी।

हमारे देश में इसके पूर्व 1975 में एक बार राजनैतिक कारणों से आपातकाल लागू किया गया था जिसे देश का काला अध्याय कहा जाता है। लेकिन वर्तमान में वैश्विक स्वास्थ्य आपदा को देखते हुए (जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी पैनडेमिक घोषित कर दिया है) यदि मेडिकल इमरजेंसी लागू करते हुए इस आपदा को रोका जाता है तो मुझे पूर्ण विश्वास है कि जनता इस निर्णय को सकारात्मक रूप में लेगी।

error: Content is protected !!