Breaking News
.

6 साल बाद गरजे लालू प्रसाद यादव, कहा-हम काहे किसी को गोली मारेंगे, आप अपने मर जाओगे…

पटना। राजद सुप्रीमो लाल प्रसाद यादव छह साल बाद गरजे। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को उनकी “गोली मारने वाली” टिप्पणी पर जवाब देते हुए कहा कि-हम काहे किसी को गोली मारेंगे, आप अपने मर जाओगे। आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि हमने नीतीश सरकार के विसर्जन की बात कही थी, मगर उन्होंने इसका गोली मारने से मतलब निकाल लिया। मालूम हो कि लालू प्रसाद यादव छह साल बाद आज बिहार में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे।

तारापुर में रैली को संबोधित करते हुए लालू प्रसाद यादव ने अपने ठेंठी अंदाज में नीतीश कुमार को जवाब दिया और कहा, ‘नीतीश कुमार की सरकार का हमने कहा विसर्जन हो रहा है। विसर्जन का मतलब निकाल लिया कि हमको मारने के लिए बोला है लालू यादव। हम काहे किसी को गोली मारेंगे, ऊ अपने मर जाएगा।’ लालू यादव ने आगे कहा कि मैं विसर्जन करने आया हूं। तेजस्वी ने कचूमर निकाल दिया है। सभी एकजुट होकर वोट कीजिए। बिहार में विकास का कोई काम नहीं हुआ है। यहां बेरोजगारी है। नीतीश कुमार डर गए हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को लालू प्रसाद का नाम लिये बैगर कहा था, ‘…. तो वे गोली ही मरवा दें। सबसे अच्छा यही होगा। बाकी कुछ तो वे नहीं कर सकते हैं। पर, अगर चाहें तो गोली मरवा सकते हैं।’ दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह बातें तब कहीं, जब वह मंगलवार को उपचुनाव के प्रचार से लौटने के बाद पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात कर रहे थे। पत्रकारों ने उनसे सवाल किया कि लालू जी कह रहे हैं कि पटना आये ही हैं, नीतीश जी का विसर्जन करने के लिए। इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा था कि अच्छा होगा कि गोली ही मरवा दें।

रैली में लालू यादव ने शराबबंदी पर तंज कसते हुए कहा कि बिहार में चूहा शराब पी लेता है। नीतीश ने कोई काम नहीं किया। नीतीश ने कहा था कि विशेष दर्जा दिलाने वाले का साथ देंगे। बिहार को अब तक विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिला। नीतीश कहते थे कि मैं मिट्टी में मिल जाऊंगा लेकिन बीजेपी के साथ नहीं जाऊंगा।

बता दें कि लालू बिहार की दो विधानसभा सीटों तारापुर और कुशेश्वरस्थान के लिए होने वाले वाले उपचुनाव प्रचार कर रहे हैं। वे अभी तारापुर में रैली कर रहे हैं। इसके बाद कुशेश्वरस्थान जाएंगे। माना जा रहा है कि लालू की एंट्री से चुनावी समीकरण बदल सकते हैं। वहीं आरजेडी समर्थकों में भारी उत्साह नजर आ रहा हैं। सभी पार्टियों ने इन सीटों पर जीत हासिल करने के लिए अपनी ताकत झोंक दी है। देखना होगा कि 30 अक्टूबर को जनता किसके पक्ष में वोट करती है। वहीं दो नवंबर को नतीजे घोषित होंगे।

error: Content is protected !!