Breaking News
.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राह पर शिवसेना के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे, अजान की आवाज सुनकर रोका भाषण …

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में 27 मार्च 2015 को दिए अपने ऐतिहासिक भाषण के बीच शुरू हुई आजान का सम्मान करते हुए अपना यशस्वी भाषण बीच में ही रोक दिया था। इसी क्रम में शिवसेना के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे ने प्रधानमंत्री का अनुसरण करते हुए चांदीवली में अपना भाषण बीच में ही रोक दिया। इसके बाद से एक बार फिर लाउडस्पीकर को लेकर चर्चा तेज हो गई है।

महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे का अजान के दौरान कुछ मिनटों के लिए भाषण रोक देने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो के बाद मस्जिदों में लाउडस्पीकर को लेकर उठा विवाद फिर से चर्चा में आ गया है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, यह घटना शुक्रवार को मुंबई के चांदीवली में हुई। आदित्य ठाकरे की चांदीवली की यात्रा उनकी ‘निष्ठा यात्रा’ का हिस्सा थी, जिसे उन्होंने एक सप्ताह पहले शुरू किया था। शिवसेना कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करने के लिए आदित्य ठाकरे ने महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों की यात्रा की।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि अजान शुरू होने पर आदित्य ठाकरे मंच पर दी जा रही अपनी स्पीच को दो मिनट के रोक देते हैं। अजान पूरी होने के बाद वह अपना भाषण फिर शुरू कर देते हैं।

आदित्य ठाकरे का अजान के दौरान अपना भाषण रोकने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कई लोग इसमें मिली-जुली प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। कुछ लोग आदित्य की हर धर्म के प्रति सम्मान को उचित ठहरा रहे हैं और प्रशंसा कर रहे हैं वहीं, कुछ लोग इस मामले को लाउडस्पीकर विवाद से जोड़ रहे हैं।

दरअसल, मस्जिदों में लाउडस्पीकर विवाद के वक्त महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार थी। उनके चचेरे भाई और महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने ऐलान किया था कि वे मस्जिदों में लाउडस्पीकर के खिलाफ हैं। अगर किसी मस्जिद में लाउडस्पीकर बजा तो वे उसके बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। आदित्य ठाकरे उस वक्त विवाद को अनावश्यक बताया था। उन्होंने उस समय कहा था, “आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों के कारणों के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए लाउडस्पीकरों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।”

उद्धव ठाकरे के खिलाफ एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद जिसके कारण महा विकास अघाड़ी सरकार गिर गई और उद्धव ठाकरे को सत्ता गंवानी पड़ी। आदित्य ठाकरे अपने अभियान में सीएम एकनाथ शिंदे के खिलाफ लगातार हमला बोल रहे हैं। वे अभियान के दौरान लोगों से लगातार संवाद कर रहे हैं और बता रहे हैं कि कैसे बीमार उद्धव ठाकरे की पीठ में छुरा घोंपा गया है। हाल के एक अभियान में, आदित्य ठाकरे ने शिंदे सरकार के पतन की भविष्यवाणी की और कहा, “मेरे शब्दों को मार्क करें .. यह सरकार जल्द ही गिर जाएगी और महाराष्ट्र को मध्यावधि चुनाव का सामना करना पड़ेगा।”

error: Content is protected !!