Breaking News
.

रूस के हमले में 7 की मौत और 9 लोग घायल, यूक्रेन बोला- झुकेंगे नहीं, लड़ेंगे और जीतेंगे ….

कीव। रूस और यूक्रेन की जंग में अब खून भी बहने लगे हैं। यूक्रेन का कहना है कि रूसी गोलाबारी में कम से कम 7 लोग मारे गए हैं और नौ अन्य घायल हो गए हैं। यूक्रेनी सशस्त्र बलों के कमांडर-इन-चीफ लेफ्टिनेंट-जनरल वालेरी ज़ालुज़नी ने कहा, “हम अपनी जमीन पर हैं। आत्मसमर्पण नहीं करेंगे। यह लड़ाई जीतेंगे।” जानकारी के मुताबिक मरियुपोल शहर में टैंक देखे गए हैं। एयरपोर्ट पर भी हमला किया गया है।

रूस ने कहा कि उसने यूक्रेन की सेना की हवाई रक्षा संपत्तियों और सैन्य ठिकानों को नष्ट कर दिया है। रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूस के हमलों ने यूक्रेन की सेना के हवाई रक्षा संपत्तियों को नष्ट कर दिया है, साथ ही यूक्रेन के सैन्य ठिकानों के बुनियादी ढांचों को नेस्तनाबूद कर दिया है। मंत्रालय ने यूक्रेन से गुजर रहे एक रूसी युद्धक विमान को मार गिराने के दावों को भी खारिज कर दिया। इस बीच, यूक्रेन की सेना ने कहा कि उसने रूस के पांच विमानों को मार गिराया है।

यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने उनके देश पर रूसी हमले को आक्रामकता का युद्ध की संज्ञा दी है और दुनियाभर के देशों से रूस के खिलाफ प्रतिबंध लगाकर उसे अलग थलग कर देने की अपील की है। कुलेबा ने ट्वीट कर कहा, ”रूस ने यूक्रेन के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया है जिसके कारण शांत यूक्रेनी शहरों पर हवाई हमले शुरू हो गये हैं। यह आक्रामकता का युद्ध है और यूक्रेन इस हमले से न केवल निपटेगा बल्कि जीतेगा भी।”

उन्होंने दुनिया भर के देशों में इस मामले में तेजी से कार्रवाई करने की अपील करते हुए एक ‘टू डू लस्टि’ जारी करने को कहा है। इस लस्टि में रूस पर अभी से कड़े प्रतिबंध लगाये जाने और उसे हर तरह से अलग-थलग किया जाने के अलावा यूक्रेन के लिए तुरंत सैन्य मदद के साथ साथ वत्तिीय और मानवीय मदद मुहैया कराये जाने के प्रावधान होने चाहिए। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया मिलकर पुतिन को रोक सकती है और ऐसा किया जाना चाहिए। दुनिया भर के देशों को तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए क्योंकि इस समय न केवल यूरोप बल्कि पूरी दुनिया का भवष्यि दांव पर लगा है।

गौरतलब है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के गुरुवार को यूक्रेन में सैन्य अभियान की घोषणा की है। रूस के इस कदम की अंततराष्ट्रीय स्तर पर निंदा की जा रही है। यूरोपीय संघ ने कहा कि यूक्रेन पर आक्रमण के रूस पर व्यापक और गंभीर परिणाम होंगे और जल्द ही उस पर अधिक प्रतिबंध लागू किए जाएंगे। वहीं, चीन ने यूक्रेन में अपने नागरिकों को मौजूदा सैन्य कार्रवाइयों और अराजकता के कारण घर में रहने की सलाह दी है, लेकिन रूस की सेना की किसी कार्रवाई का उसने कोई जिक्र नहीं किया।

error: Content is protected !!