Breaking News
.

घर पर तैनात थे 40 सुरक्षाकर्मी, सिक्योरिटी के आने के इंतजार में चली गई हैती के राष्ट्रपति की जान, पढ़ें पत्नी की जुबानी दर्द भरी कहानी ….

फ्लोरिडा । हैती के राष्ट्रपति जुबेनेल मोइज की हत्या का राज धीरे-धीरे खुलने लगा है। भारी-भरकम सुरक्षा घेरे में रहने वाले राष्ट्रपति के निवास में तकरीबन 10 लोग घुसकर हत्या कर दिए मगर सुरक्षाकर्मियों को इसकी भनक नहीं लगी। इस बात पर भी अब संदेह व्यक्त किया जाने लगा है। राष्ट्रपति की पत्नी ने हत्या के संबंध में सुरक्षा एजेंसियों को बयान दी है। इसके बाद पूरे विश्व में यह मामला इन दिनों सुर्खियों में है।

पिछले महीने हैती के राष्ट्रपति जुवेनेल मोइज की हत्या कर दी गई थी। हमलावरों ने उन्हें उनके घर में घुसकर मार डाला था। इस हमले में जुवेनेल की पत्नी मार्टिन मोइज की जान बच गई थी। अब वह अपने पति के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए कोशिश कर रही हैं। सीएनएन से बात करते हुए मार्टिन ने कहा है कि जुवेनेल मोइज की क्रूर हत्या की गई। दुनिया को इस हत्याकांड को सुलझाने में मदद करनी चाहिए। जुवेनेल की हत्या को लेकर मार्टिन का कहना है कि किसी ने हत्या का आर्डर दिया और किसी ने पैसे। हम हत्यारों की तलाश कर रहे हैं। हत्यारों को खोजने के लिए यूनाइटेड नेशंस सिक्यूरिटी काउंसिल की मदद चाहिए। बता दें कि मार्टिन, जुवेनेल की हत्या की एकमात्र प्रत्यक्षदर्शी हैं। इस हमले में मार्टिन खुद भी घायल हो गई थीं।

हमले की रात को लेकर मार्टिन बताती हैं, ‘हत्या से पहले मुझे पता चल गया था कि कुछ गड़बड़ है क्योंकि रात के एक बजे करीब ऑटोमेटिक गनफायर की आवाज़ आ रही थी। जब हमलावरों ने घर में घुसना चाहा तो हमने छिपने की कोशिश की। लेकिन हमें उम्मीद थी कि हमें कुछ नहीं होगा क्योंकि घर पर 30-50 सुरक्षाकर्मी मौजूद थे। लेकिन पता नहीं वह कैसे घर में कैसे घुस गए। हैती के सुरक्षा अधिकारियों ने अब तक इस हमले को लेकर चीज़ें स्पष्ट नहीं की हैं।’ वह आगे बताती हैं कि मुझे सिर्फ हमलावरों के जूते दिख रहे थे। करीब दस हमलावर स्पेनिश में बोल रहे थे। उन्होंने राष्ट्रपति की पुष्टि की और फिर गोलियां दाग दीं।

मार्टिन बताती हैं कि मदद के लिए कोई सुरक्षा गार्ड नहीं आए। नौकरानी ने मुझे बेहोशी के हालात में उठाया। बाद में नेशनल पुलिस पहुंची और मुझे हॉस्पिटल ले गई। मार्टिन का मानना है कि राष्ट्रपति इस उम्मीद में मरे कि सुरक्षा टीम आएगी लेकिन सुरक्षा टीम नहीं पहुंची।

हैती के सुरक्षा अधिकारियों ने कहा है कि इस हमले में एक भी सुरक्षा गार्ड नहीं घायल हुआ क्योंकि हमलावर मुख्य द्वार को तोड़कर, परिसर को पार करते हुए मुख्य दरवाजे को तोड़ दिया और सीधे राष्ट्रपति के कमरे की ओर बढ़ गए।

सुरक्षा गार्ड्स ने क्या देखा, क्या हुआ और क्या किया। इन सभी सवालों के जवाब जांच पूरे होने के बाद ही मिल सकेंगे। अब तक 12 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। कई लोग कस्टडी में हैं और कई लोगों से पूछताछ जारी है लेकिन अब तक कुछ साफ़ नहीं है कि हत्या कैसे और क्यों हुई।

मार्टिन कहती हैं, ‘मुझे नहीं लगता है कि स्थानीय अधिकारी इस केस को सुलझा पाएंगे। अभी जारी जांच पारदर्शी नहीं है। देश के राष्ट्रपति की हत्या के लिए हत्यारों ने महीनों की योजना बनाई होगी लेकिन खुफिया एजेंसियों को कुछ पता नहीं था। इससे ये साबित होता है कि हैती की सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों को बेहतर काम करने की जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा संचालित एक स्वतंत्र जांच की जरूरत है।’

error: Content is protected !!