Breaking News
.

जम्मू-कश्मीर और हिमाचल में 18 लोगों की मौत; 80 गांवों का संपर्क टूटा; 1 अगस्त तक भारी बारिश होगी…

नई िदल्ली।  में ऋषिकेश-चीला मार्ग पर बीन नदी का जलस्तर बढ़ गया है। इससे 80 गांवों से संपर्क टूट गया है। इधर राजस्थान में भी मानसून सक्रिय होने की वजह से बुधवार को भी कई जिलों में बारिश हुई। मौसम विभाग का कहना है कि 1 अगस्त तक पूर्वी राजस्थान में मानसून सक्रिय रहेगा। तेज बारिश पहाड़ी राज्यों पर कहर बनकर टूटी है। बुधवार को जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बादल फटने और बारिश की वजह से हुए हादसों में 18 लोगों की मौत हो गई और 50 लापता हैं।

अमरनाथ गुफा के पास बुधवार दोपहर 3.45 बजे बादल फटने से भारी बारिश हुई। इससे पहाड़ों से मिट्‌टी और पानी भरभराकर तलहटी में आ गया। अमरनाथ गुफा सुरक्षित है, लेकिन लंगर सेवा, सुरक्षाबलों के कई टेंट और छोटे पुल बह गए। राहत की बात ये रही कि गुफा के आसपास श्रद्धालु नहीं थे; क्योंकि कोरोना के चलते यात्रा पहले ही टाल दी गई है, नहीं तो इस समय वहां हजारों श्रद्धालु होते।

उधर जम्मू के किश्तवाड़ जिले के होंजार गांव में बुधवार को बादल फटने से बाढ़ आ गई। इसमें छह से आठ घर बह गए। मलबे से 8 शव बरामद हो चुके हैं। उधर करगिल में दो जगह बादल फटने से मिनी पॉवर प्रोजेक्ट और एक दर्जन घरों को नुकसान हुआ है। हिमाचल के आपदा प्रबंधन निदेशक एसके मोख्ता ने बताया कि लाहौल-स्पीति के तेजिंग नाले में बाढ़ आने से 10 लोग बह गए। इनमें 7 शव बरामद हुए हैं, वहीं, तीन अभी लापता हैं। चंबा में एक व्यक्ति की मौत हुई है। कुल्लू में हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट से जुड़े एक अधिकारी और दिल्ली के पर्यटक सहित चार लोग लापता हैं। कुल्लू में मणिकरण के पास ब्रह्मगंगा में जलस्तर बढ़ने से मां-बेटे बह गए।

मणिकरण निवासी रोशन लाल ने बताया, ‘सुबह करीब 6 बजे का समय था। अचानक तेज आवाजें सुनाई देने लगी। इसी बीच पता चला कि नदी में बाढ़ आ गई है। मैंने घर से निकलकर सुरक्षित स्थान की ओर भागने की कोशिश की। मेरी बहू पूनम अपने 4 साल के बेटे को पीठ पर उठाकर भागने की कोशिश कर रही थी, इसी दौरान ऊपर से भारी मलबा और लकड़ी आई। पलक झपकते ही बहू और पोता मलबे में खो गए। यह मेरा दुर्भाग्य रहा कि मैं उन्हें बचाने के लिए कुछ नहीं कर पाया और कुदरत के इस कहर ने मुझे मौका तक नहीं दिया।’

गंगोत्री धाम के पास नदी में पहाड़ गिरने और तेज बारिश से गंगा का जल स्तर बढ़ गया है। वहीं ऋषिकेश-चीला मार्ग पर बीन नदी का भी जलस्तर बढ़ गया है। इससे 80 गांवों से संपर्क टूट गया है। मसूरी के केम्प्टी फाल्स में भी जलस्तर बढ़ गया है। प्रदेश में मानसून सक्रिय होने के कारण बुधवार को भी कई जिलों में बारिश हुई। धौलपुर में 39 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई, जबकि जयपुर में भी दिनभर बादल छाए रहे। मौसम विभाग का कहना है कि एक अगस्त तक पूर्वी राजस्थान में मानसून सक्रिय रहेगा। आज सीकर, अलवर, जयपुर, दौसा, टोंक, बूंदी, सवाईमाधोपुर और करौली में भारी बारिश के आसार हैं। 30 जुलाई को बारां, सीकर, जयपुर, सवाईमाधोपुर, बूंदी, कोटा, भीलवाड़ा और टोंक में भारी बारिश का अनुमान है। वहीं 31 जुलाई को झुंझुनूं, अलवर, डूंगरपुर में तेज बारिश हो सकती है।

error: Content is protected !!