Breaking News
.

12वीं पास ठग ने बड़े-बड़े व्यापारियों को लगा दी करोड़ों की चपत…

भोपाल। अब एक शातिर ठग ने इंडिया मार्ट पर काली मिर्च बेचने के नाम पर देशभर के लोगों से करोड़ों रुपये ठग लिये. तकनीकी तौर पर जानकार इरफान नाम का ये अंतरराज्यीय ठग वैसे तो 12वीं पास है, लेकिन तकनीकी का इस्तेमाल उसने बड़े बड़े व्यापारियों को ठगने में किया. . वह एक साल से  अधिक समय से ठगी कर रहा था. आरोपी नोएडा, लखनऊ और मिर्जापुर में किराये के मकान रहकर सायबर ठगी का काम करता था.

 

भोपाल की साइबर क्राइम ब्रांच ने ठगों का भांडाफोड़ किया. एडिशनल एसपी अंकित जायसवाल ने बताया कि सायबर क्राइम भोपाल में व्यापारी जितेन्द्र सक्सेना ने शिकायत की थी. उन्होंने बताया कि इंडिया मार्ट पर जीजे ट्रेडर्स नाम की फर्म के संचालक तरुण कुमार से काली मिर्च खरीदने के लिये संपर्क किया था. उससे फोन पर 340 रुपए प्रति किलो के हिसाब से दो टन काली मिर्च खरीदने का सौदा तय हुआ था. जितेंद्र से एडवांस के लिए जीजे ट्रेडर्स और शिवालिक ट्रेडर्स नामक फर्म के दो अलग-अलग बैंक खातों में 6 लाख 94 हजार रूपये जमा कराए गए. इसके बाद फोन करने वाले ठग ने अपना मोबाइल फोन बंद कर लिया. जितेन्द्र की शिकायत पर पुलिस ने बैंक से डीटेल निकलवाकर बैंक खाता और मोबाइल नंबरों के यूजर के खिलाफ धारा 420 के तहत एफआईआर दर्ज की.

 

ठगी गई राशि को फ्रीज कराया…

साइबर क्राइम ब्रांच की टीम ने सबसे पहले सायबर फ्रॉड में गए 6,94,000 में से 5,72, 000 रुपये फ्रीज कराए. उसके बाद तकनीकी एनालिसिस के आधार पर आरोपी इरफान को मिर्जापुर उत्तर प्रदेश से गिरफ्तार किया गया है. आरोपी से घटना में इस्तेमाल 2 मोबाइल,1 सिम और 2 एटीएम कार्ड जब्त किये गए.

 

वारदात का तरीका

आरोपी इरफान ने इंडिया मार्ट में अपने मोबाइल नंबर को जीजे ट्रेडर्स के नाम से रजिस्टर कराया था. इसी के जरिए उसने भोपाल के साथ देशभर के सैकड़ों व्यापारियों से माल खरीदने के लिए मोबाइल फोन पर संपर्क किया. आरोपी सौदा तय होने पर 50 प्रतिशत राशि एडवांस पेमेण्ट करने के लिये कहता था. पेमेंट होने पर वो फर्जी बिल और ट्रांसपोर्ट की फर्जी बिल्टी व्यवसायी को व्हाट्सअप पर भेज कर शेष राशि का भुगतान करने के लिए कहता था. व्यवसायी जब पैसा दे देते थे तो उसके बाद ये शातिर ठग उनका  मोबाइल नंबर ब्लॉक कर देता था. जब वो इस तरह से एक या दो लोगों को ठग लेता था उसके बाद अपने मोबाइल फोन की भी सिम तोड़ कर फेंक देता था ताकि कोई उस तक न पहुंच पाए.

 

आलीशान मकान महंगी गाड़ियों का शौकीन…

आरोपी इरफान ने ठगी का यह तरीका नोएडा में रहकर सीखा था. वो धोखाधड़ी से मिले पैसे का प्रयोग आलीशान मकान, महंगी गाड़ी और दूसरी  सुख-सुविधाओं में करता था. वो दूसरे खाता धारकों से 10-15 हजार रूपये में बैंक खाता खरीदता था. आरोपी अभी तक लगभग 10 बैंक खातों का इस्तेमाल ठगी के लिए कर चुका है.

error: Content is protected !!